Tuesday, 10 December 2019

दो हिस्सा

   एक ही इंसान,
   दो हिस्सों में बट रहा हैं
   जिस्म किसी और का
   और दिल किसी और का
   कह रहा हैं...
   SHAYRANA ZINDAGI
   Ek hi insaan,
   Do hisso me bat Raha hai
   Jishm kisi aur ka
   Aur Dil kisi aur ka
   Kah Raha hai...

Sunday, 1 December 2019

जन्नत

   जन्नत पा लिया हो जैसे
   खुद में तुमको ढुंढ के
   नसीब रोशन हो जाता हैं
   कदमों को तेरे चूम के
   SHAYRANA ZINDAGI
   Jannat pa liya ho jaise
   Khud mein tumko dhundh ke
   Naseeb roshan ho jata hai
   Kadmo ko tere chum ke
   

Saturday, 23 November 2019

ख्वाहिशें

   तेरे नाम के खुशबू से,महक उठते हैं,
   मेरे जिस्मो-जां यूं
   फिजाओं में जैसे घुल गई हो
   मेरी ख्वाहिशे सारी
   SHAYRANA ZINDAGI
   Tere Naam ke khushbu se,
   Mahek uthate hai,
   Mere jishmo-jaan yu
   Fizao me jaise ghul gai ho
   Meri khwahishe sari

Friday, 22 November 2019

गवाह

   गवाह हैं,सुखे हुए,
   मेरे आंसुओं से, डुबा वो रूमाल
   आज भी ज़हन में तुम्हारे,
   रहता हैं सिर्फ,मेरा ख्याल...
   SHAYRANA ZINDAGI
   Gawah hai,sukhe hue,
   Mere aasuo se,dhooba wo rumal
   Aaj bhi Jahan me tumhare
   Rehta hai sirf,mera khayal...

Monday, 11 November 2019

गज़ल

   मेरी आंखों के काजल को
   चुरा के
   जो गज़ल लिखे थे तुमने
   आहिस्ता आहिस्ता वो भी धुंधला जाएंगे
   अपनी मुहब्बत की तरह
   SHAYRANA ZINDAGI
   Meri aankhon ke kajal ko chura ke
   Jo gazal likhe the tumne
   Aahista Aahista wo bhi
   dhundhla jayenge
   Apni muhabbat ki tarah

Sunday, 27 October 2019

रंगीन दीये

   मन बुझा कौन देखता हैं
   खुश हुं ये लोगो को बता दिया हैं
   हां... मैंने अपना घर
   रंगीन दीयों से सजा लिया हैं
   SHAYRANA ZINDAGI
   Man bujha koun dekhta hai
   Khush hu ye logo Ko Bata diya hai
   Haan...maine apna ghar
   Rangeen diyo se Saja liya hai

Thursday, 17 October 2019

बेशुमार दौलत

   बेशुमार दौलत मुहब्बत का...
   बांट रहे हैं जो...
   पास आते ही मेरे...
   खाली जेब दिखा देते हैं वो...
   SHAYANA ZINDAGI
   Beshumaar Daulat Mohabbat ka...
   Baant rahe hai jo...
   Pass aate hi mere...
   Khali jaib dikha dete hai wo...